मोहरम ओर दशहरा साथ बनाने के लिए इनकी तैयारी ने दी देश को मिसाल

एक ओर कहा देश के लिए मोहरम ओर दशहरा साथ मनाना एक चुनौती लग रहा है वही बिहार के वैशाली जिले में दशहरा और मुहर्रम साथ-साथ मनाने के लिए दोनों समुदायों ने आपसी समहति से एक मसौदा तैयार किया है.

महनार के जामा मस्जिद में कई मुस्लिम अखाड़ों के मौलानाओं ने बैठक कर शांतिपूर्ण ढंग से मुहर्रम और दशहरा साथ-साथ मनाने के लिए महनार में मुहर्रम के दौरान सभी मुस्लिम अखाड़ों ने बिना शोर-शराबा किए शांतिपूर्ण तरीके से जुलुस और ताजिया निकालने का फैसला किया है. महनार जामा मस्जिद के इमाम ने बताया की फैसला सबकी मर्जी और सहमति से लिया गया है.

जामा मस्जिद के इमाम मोहम्मद जैनुल अजमली ने कहा, “देखिए सभी लोगों के इत्तेफाक-राय से यही फैसला हुआ है कि इसबार ताजिया नहीं बनाया जाए और एक शांति जुलूस निकाला जाए. यह शांति जुलूस भी सभी लोग मिल कर और पूरी पाकीजगी के साथ निकालें. चुंकी हम मानते हैं कि हमारा मुल्क जो है जम्हूरी मुल्क है और उस बाग की तरह है जिसमें हर तरह के फूल हैं.”

उन्होंने आगे कहा, “हिंदुस्तान हमारी जान है और सारे लोग हमारे भाई हैं. अगर हमारी किसी भी बात से या काम से हमारे भाई को तकलीफ हो तो यह अच्छा नहीं होता. तो क्यों न हम शांति जुलूस निकालें ताकि सब मिलजुल कर चलें और इससे किसी तरह का विवाद या खुराफात भी न पैदा होगा.”

इस फ़ैसले पर  सहमति बनाने के लिए इमाम साहब पिछले दो महीने से मेहनत कर रहे थे. जहां-जहां ताजिया बनता था वह वहां-वहां जाकर लोगों को समझा रहे थे और सभी के बीच सहमति बनाने की कोशिश कर रहे थे. मुस्लिम समुदाय के इस फैसले से वैशाली जिला प्रशासन ने भी राहत की सांस ली है.

वैशाली की डीएम रचना पाटिल ने बताया कि इस साल दुर्गा पूजा और मुहर्रम में शांतिपूर्ण तरीके से जलूस निकालने वालों को पुरस्कार दिया जाएगा. साथ ही जिला प्रशासन ने किसी भी तरह के जुलूस-झांकी में डीजे बजाने पर पाबंदी लगा दी है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *