टोकोफ़ोबिया ये कैसे बीमारी है ओर महिलाओं में ही क्यों पाई जाती है ये बीमारी

टोकोफ़ोबिया एक प्रकार का डर हैं. इस डर से पीड़ित महिलाओं को प्रेगनेंसी और बच्चों को जन्म देने से डर लगता है. विशेषज्ञों का मानना है कि दुनिया में तकरीबन 14 फ़ीसदी औरतों को यह परेशानी होती है.

‘’टोकोफ़ोबिया से ग्रसित महिलाएं प्रेगनेंसी को टालने के लिए किसी भी हद तक जा सकती हैं. वो मां बनने से इतना डरती हैं कि गर्भपात तक करा लेती हैं.” यह एक अजीब प्रकार का डर जिसके रहते महिलायें गर्भवती महिलाओं को देखकर घबरा जाती हूं. यहां तक कि प्रेगनेंसी या बच्चे पैदा करने की बात सुनकर ही उन्हें पसीना आने लगता है, वो कांपने लगती है .

टोकोफ़ोबिया से पीड़ित महिलाओं को बचाने के लिए उन्हें सपोर्ट करना चाहिए . उन्हें बताया जाना चाहिए कि यह नॉर्मल है और इससे निकला जा सकता है.

यह अपने आप एक बहुत ही ख़ूबसूरत एहसास है जिससे जीने का अपना ही मज़ा है आख़िर माँ बनना स्त्री के लिए दूसरा जन्म है

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *