शंख बजाने से ये बीमारियाँ नहीं होती त्वचा को भी देता है नया रूप

पवित्र और शुभ फलदायी माना गया है। इसलिए पूजा-पाठ में शंख बजाने का नियम है।अगर धार्मिक बातों को दरकिनार भी कर दें तो भी शंख बजाने के ऐसे फायदे हैं जिसे जान लेंगे तो हर दिन सुबह शाम शंख बजाए बिना नहीं सो पाएंगे।

शंख बजाने से हमारे फेफड़ों का अच्छा व्यायाम हो जाता है और इस व्यायाम से फेफड़ों की दूषित वायु बाहर निकल जाती है जिससे शरीर को ऊर्जा प्राप्त होती है। प्रतिदिन ऐसा करने पर शरीर शक्तिशाली बनता है, कार्य करने की क्षमता में बढ़ोतरी होती है।शंख बजाने से सारे ब्लॉकेज खुल जाते हैं ऐसे में नियमित शंख बजाने वाले को कभी हार्ट अटैक का खतरा कम हो जाता हैं।

1.धार्मिक मान्यताओं की मानें तो शंख का संबंध भगवान विष्णु से है। इस भगवान विष्णु के चार आयुध शस्त्रों में गिना जाता है। भगवान विष्ण के हाथों में चक्र, गदा, पदम यानी कमल का फूल और की तरह शंख भी होता है।

2.धार्मिक मान्यताओं के अनुसार य़ह भी कहा जाता है कि कहा जाता है कि पूजा में जब शंख बजाया जाता है तो इसकी ध्वनि से आकर्षित होकर भगवान विष्णु पूजा स्थल की ओर सकारात्मक ऊर्जा का संचार करते हैं। इससे न सिर्फ शंख बजाने वाले को लाभ होता है बल्कि जो पूजा में शामिल हैं उन्हें भी इसका फायदा मिलता है।

3.शंख को पूजा स्थल में कपड़े में लपेटकर रखना चाहिए। इसके साथ ही शंख को घर के पूजा के कमरे में आसन पर रखना चाहिए।

4. घर में शंख को सबुह और शाम ही बजाना चाहिए। इसके अलावा शंखो को नहीं बजाना चाहिए।

5. मंदिर में एक से ज्यादा शंख नहीं होने चाहिए।

6. शंख को होली, दिवाली जैसे शुभ मुहर्त में ही पूजा स्थल में स्थापित किया जाना चाहिए।

7.अपना शंख न तो किसी को इस्तेमाल करने दें और न ही किसी और का शंख आप इस्तेमाल करें।

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *